राजनीतिसंपादकीय

हरियाणा लोकसभा में किसने तोड़े रिकॉर्ड

सत्रहवीं लोकसभा के चुनाव परिणाम के साथ ही हरियाणा में कई रिकार्ड बने जिसने लोगों का ध्यान अपनी तरफ आकर्षित किया। बता दंे कि गुरुग्राम से चुनाव जीतने की ओर आगे बढ़ रहे केंद्रीय राज्य मंत्री राव इंद्रजीत ऐसे नेता होंगे जो पांचवीं बार लोकसभा पहुंचेंगे। प्रदेश में अभी तक हुए लोकसभा चुनावों में आधा दर्जन ऐसे नेता हैं जो चार बार लोकसभा में दस्तक दे चुके हैं। मगर राव इंद्रजीत एक ऐसे सांसद साबित हुए हैं जिन्होंने लगातार 5 बार जीत हासिल की है। राव इंद्रजीत ने 816020 वोट मिले उन्होंने कांग्रेस के प्रत्याशी कैप्टन अजय सिंह (466808) को 349212 वोटों से हरा कर जीत हासिल की। बता दें कि गुरुग्राम से निवर्तमान सांसद राव इंद्रजीत, सोनीपत से चुनाव लड़ रहे पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुडडा और अंबाला से चुनाव लड़़ रही कुमारी सैलजा चार-चार बार सांसद रह चुके हैं। अब हुड्डा और सैलजा चुनाव हार गए तो अकेले राव इंद्रजीत ऐसे नेता बचे हैं जो हरियाणा से पांचवीं बार लोकसभा में पहुंचेंगे।
अगला रेकॉर्ड कायम किया इनेलो ने। इनेलो के सभी के सभी प्रत्याशियों ने जमानत जब्त करवाकर यह साबित कर दिया कि हरियाणा में अब क्षेत्रीय दल इनेलो का नामोनिशान और प्रभाव खत्म होने की कगार में आ पंहुचा है। हरियाणा में 10 की 10 लोकसभा सीट में इनेलो के सभी प्रत्याशियों की जमानत जब्त होने के कारण उन्हें इस चुनाव में बेहद शर्मिंदगी का सामना करना पड़ा। इतना ही नहीं चौटाला परिवार की तीसरी पीढ़ी अर्थात अर्जुन चौटाला को तकरीबन 58,620 वोट मिले और वह भी अपनी जमानत जब्त होने से बचा नहीं पाए।
इस चुनाव में विभिन्न पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष का क्या हाल रहा आइये जानते हंै। बता दंे कि इसमें आम आदमी पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष नवीन जयहिंद के तेजतर्रार भाषण उनका साथ नहीं निभा पाए और न ही अरविन्द केजरीवाल या दुष्यंत की रैली ही कोई कमाल नहीं दिखा पाई। 9865 वोटों के साथ नवीन जयहिंद अपनी जमानत जब्त होने से नहीं बचा पाए।
हिसार में भाजपा ने कमल खिलाकर एक और रिकॉर्ड कायम किया। हिसार में भाजपा ने कमल खिलाकर सभी दिग्गजों को दरकिनार कर अपनी सत्ता हासिल कर पार्षद, मेयर, विधायक और अब सांसद भी भाजपा के आने से अब यहां पर सभी जगह भाजपा का कब्ज़ा होगा। बता दंे कि इसके अलावा जिस प्रकार से नोटा पर लोगों ने खुलकर वोट किया वो भी कम नहीं है। खुद हिसार लोकसभा में 16 प्रत्याशियों को नोटा से कम वोट आये। इतना ही नहीं बात करंे भाजपा प्रत्याशी की तो संजय भाटिया ने करनाल से कांग्रेस प्रत्याशी को हराकर तकरीबन 6 लाख 54 हजार से जीत हासिल कर 10 लोकसभा सीट में सबसे ज्यादा मार्जिन से अपने प्रतिद्वंदी को हारने का रेकॉर्ड हासिल किया है।
वहीं इस बार चुनाव में खड़े कांग्रेस नेताओं के सभी बच्चों की पराजय ने भी एक रेकॉर्ड अपने नाम किया है। साथ ही जाट बेल्ट और दशकों से राज करने वाले पिता-पुत्र की जोड़ी को हराने का भी रिकॉर्ड बनाया। बता दंे कि भाजपा ने पिता पुत्र (भूपेंद्र हुड्डा और दीपंेद्र हुड्डा को करारी हार देकर पिता पुत्र को हराने का रिकॉर्ड्ड बनाया जो इतिहास के पन्नों पर लिखा जाएगा।
इतना ही नहीं रोहतक में आखिरी दौर तक चले अहम मुकाबले में दीपंेद्र हुड्डा को महज कुछ वोटों से मात मिली जो इतिहास के पन्नों पर दर्ज होगी।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close