टुडे न्यूज़राजनीतिसंपादकीय

दिनबंधू मूर्ति के अनावरण के साथ हरियाणा में बजेगा चुनावी बिगुल 

Hisar Today

अब जब हिसार में चौधरी वीरेंद्र सिंह अपने बेटे के लिए लोकसभा टिकट पाने के लिए बैटिंग कर रहे है, ऐसे में दुष्यंत चौटाला ने वीरेंद्र सिंह को अपनी लोकप्रियता का परिचय देते हुए दिनबंधू सर छोटूराम की प्रतिमा के अनावरण के लिए उनके खिलाफ ही सड़कों पर उग्र आंदोलन करते हुए उतर आये। उन्होंने सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर जोरदार हमला करते हुए सीधा दीनबंधु सर छोटूराम के वंशज वीरेंद्र सिंह को ही आड़े हाथो लेते हुए कहा था कि केवल चुनाव के मद्देनजर प्रधानमंत्री मोदी का समय न मिल पाने की वजह से 9 महीनों से तैयार सर छोटूराम जी की प्रतिमा का अनावरण बीरेंद्र सिंह सर छोटूराम जी का घोर अपमान कर रहे हैं। इस बहाने जहां इनेलो ने 2019 की चुनावी सरगर्मियां दिखाई, तो उसके बाद  भाजपा ने भी बड़ा कदम उठाते हुए दीनबंधु सर छोटूराम की प्रतिमा अनावरण करने हेतु पीएम नरेंद्र मोदी को हरियाणा ला रहे हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का हरियाणा आगमन इस बात की तरफ साफ संकेत दे रहा है कि भाजपा 2019 चुनाव के तहत हरियाणा में पूरी तरह से तैयार हो गयी है। प्रधानमंत्री मोदी हरियाणा में 2019 चुनाव का बिगुल बजा देंगे। यह सभा कहीं न कहीं भाजपा का शक्तिप्रदर्शन, लोगो में लोकप्रियता मापने का अंदाजा होगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जब 2014 लोकसभा चुनाव का आगाज किया था शुरुवात हरियाणा के रेवाड़ी में एक जोरदार सभा के द्वारा कि थी। ऐसे में माना जा रह है कि दुबारा मोदी 2019 चुनाव का आगाज भी हरियाणा से करेंगे। हरियाणा में इन दिनों का माहौल देख कर लग रहा है कि सभी पार्टिया अपनी अपनी तैयारियों में लग गई हैं। एक तरफ इनेलो के सम्मान दिवस समारोह को आगामी चुनाव मद्देनजर देखा गया है, तो वहीं भाजपा की प्रधानमंत्री की सभा भी भाजपा के लिए अग्निपरीक्षा होगी।

गौरतलब है कि हरियाणा में किसान आंदोलन के साथ अन्य प्रकार के आंदोलन के कारण भाजपा के खिलाफ हरियाणा में आवाज़  बुलंद है, मगर भाजपा के सभी मंत्री खुद और पार्टी को किसान हितैषी बताते हुए भाजपा  को आड़े लिया है वे यह कहते नही थक रहे कि उनकी सरकार ने किसानों के लिए जो किया वह किसी ने नहीं किया। जबकि क्या मनोहर लाल सरकार जनता के भरोसे को जीतने में कामयाब हुई या नहीं इसका आकलन यह सभा करेगी। प्रधानमंत्री मोदी की इस सभा में शामिल होने  के कई राजनीतिक मायने है। एक तरफ मोदी किसानों की आवाज यहां शांत करवाकर मोदी के पक्ष में माहौल बनाने की कोशिश करेंगे। साथ ही 2019 चुनावों के मद्देनजर भाजपा कार्यकर्ताओं में नई ऊर्जा का संचार करेंगे। ऐसे में देखना लाजमी यह होगा कि क्या मोदी हरियाणा में भाजपा के पक्ष में हवा मोड़ पाएंगे?

क्या 2019 चुनाव का आगाज करके वो जीत की राह यहां से तय करके इतिहास दौबारा दोहरा पाएंगे। यही सवाल आज सभी के जहन में चल रहा है। वैसे मोदी एक तीर से दो निशाने लगाने वाले हैं। एक तरफ मोदी विपक्ष की एकता की यहां पोल खोलेंगे वहीं मोदी यह भी संकेत देंगे की उनकी नजर लगातार हरियाणा पर बनी हुई है। नरेंद्र मोदी के मामले में यह कहा जाता है कि वह हारी बाजी जीतना जानते हैं। इसलिए मोदी पूरी कोशिश करेंगे कि इस सभा के जरिये न केवल वह दीनबंधु सर छोटूराम के चाहने वालों का दिल जीतें बल्कि भाजपा के खिलाफ उठी नकरात्मक हवा को भी नेस्तनाबंद करें। यह सभा हरियाणा में 2019 चुनाव का आगाज देगी।

इस चुनाव में भाजपा यह पूरी कोशिश करेगी की वह हारी हुई सीटों पर भी फतह कर सभी पार्टियों का गाडित बिगाड़ कर अपना वर्चस्व स्थापित करे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हरियाणा आगमन के साथ सभी विपक्षी दलों में हलचल भी तेज हो गई है। सभी के नजरे इस बात पर टिकी होगी कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दिल में क्या है। क्या वो किसान की विरोधी आवाज को दबा पाएंगे? क्या कांग्रेस मुक्त भारत के अपने संकल्प को पूरा कर पाएंगे। यह सभा  हरियाणा में भाजपा की शक्ति और स्थिति भी दिखाएगी। क्यूंकि यही तय करेगी कि भाजपा को चुनाव में कितनी तैयारियां करनी पड़ेगी।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close