बिज़नेस

लगातार तीसरे महीने मई 2019 में GST संग्रह एक लाख करोड़ रुपये के पार

मई 2019 में जीएसटी संग्रह 1,00,289 करोड़ रुपये रहा। यह अप्रैल 2019 के 1,13,865 करोड़ रुपये के जीएसटी संग्रह की तुलना में कम है। अप्रैल में जीएसटी संग्रह माल एवं सेवा कर व्यवस्था लागू होने के बाद अब तक का सबसे ज्यादा राजस्व संग्रह है।

माल एवं सेवा कर (GST) संग्रह मई महीने में एक लाख करोड़ रुपये पर पहुंच गया। पिछले साल मई में जीएसटी के मद में 94,016 करोड़ रुपये की वसूली हुई थी। सरकार ने शनिवार को यह जानकारी थी। मई में जीएसटी संग्रह 1,00,289 करोड़ रुपये रहा। यह अप्रैल 2019 के 1,13,865 करोड़ रुपये के जीएसटी संग्रह की तुलना में कम है। अप्रैल में जीएसटी संग्रह माल एवं सेवा कर व्यवस्था लागू होने के बाद अब तक का सबसे ज्यादा राजस्व संग्रह है।

यह लगातार तीसरा महीना है, जिसमें जीएसटी संग्रह एक लाख करोड़ रुपये के स्तर को पार कर गया है। मार्च 2019 में 1.06 लाख करोड़ रुपये की वसूली हुई थी। मई महीने में कुल 72.45 लाख संक्षिप्त बिक्री रिटर्न जीएसटीआर -3 बी जमा किए गए। यह अप्रैल में दाखिल किए गए 72.13 लाख रिटर्न की तुलना में अधिक है। वित्त मंत्रालय ने बयान में कहा कि मई महीने में कुल जीएसटी संग्रह 1,00,289 करोड़ रुपये रहा। इसमें केंद्रीय जीएसटी (सीजीएसटी) 17,811 करोड़ रुपये , राज्य जीएसटी (एसजीएसटी) 24,462 करोड़ रुपये, एकीकृत जीएसटी (आईजीएसटी) 49,891 करोड़ रुपये और उपकर संग्रह 8,125 करोड़ रुपये रहा। मंत्रालय ने बताया कि फरवरी – मार्च 2019 के लिए जीएसटी क्षतिपूर्ति के रूप में राज्यों को 18,934 करोड़ रुपये जारी किए गए हैं।

मंत्रालय ने कहा कि मई 2019 में जीएसटी संग्रह 2018-19 में हुए औसत मासिक जीएसटी राजस्व (98,114 करोड़ रुपये) से 2.21 प्रतिशत अधिक है और मई 2018 के जीएसटी राजस्व से 6.67 प्रतिशत अधिक है। मई 2019 के दौरान , सरकार ने नियमित निपटान के रूप में सीजीएसटी को 18,098 करोड़ रुपये और आईजीएसटी से सीजीएसटी को 14,438 करोड़ रुपये दिए हैं। मंत्रालय ने कहा कि मई 2019 में नियमित निपटान के बाद केंद्र सरकार और राज्यों का अर्जित कुल राजस्व क्रमश: (सीजीएसटी के लिए) 35,909 करोड़ रुपये और (एसजीएसटी के लिए) 38,900 करोड़ रुपये रहा। केंद्र ने 2019-20 वित्त वर्ष में सी जीएसटी से 6.10 लाख करोड़ रुपये और क्षतिपूर्ति उपकर के रूप में 1.01 लाख करोड़ रुपये एकत्र करने का लक्ष्य रखा है। आईजीएसटी 50,000 करोड़ रुपये रहने का अनुमान है। वित्त वर्ष 2018-19 में सीजीएसटी संग्रह 4.25 लाख करोड़ रुपये तथा क्षतिपूर्ति उपकर 97,000 करोड़ रुपये से अधिक था।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close