टुडे न्यूज़भिवानीहरियाणा

मां बेटे ने अपना स्वयं का रिकार्ड तोडक़र दिया गुरूजी को जन्मदिन का तोहफा

बिटस इंटरनेशन स्कूल में चला एक माह के योग शिविर के दौरान अपना ही रिकार्ड तोड़ते हुए गोल्डन बुक आफ रिकार्ड में अपना नाम दर्ज करवाया। 

भिवानी । 
 गौरतलब होगा कि 46 वर्षीय ग्रहणी चांदनी महेश्वरी ने अपने योग गुरू रविंद्र श्योराण से प्रेरणा लेकर 14 फरवरी 2019 को सूर्य नमस्कार के 12 घंटे में 4657 राऊंड करके गोल्डन बुक आफ वल्र्ड रिकार्ड में अपना नाम दर्ज करवाया था। साथ ही बेटे लक्ष्य महेश्वरी 11 वर्षीय ने अपनी मां व पिता राजेश महेश्वरी से प्रेरणा लेकर मां के साथ ही 14 फरवरी 2019 को योग में भू  -नमन का 1 घंटा 10 मिनट का वल्र्ड रिकार्ड बनाकर गोल्डन बुक आफ रिकार्ड में अपना नाम दर्ज करवाया था।
अब पुन: अपने योग गुरू रविंद्र श्योराण को उनके जन्म दिन पर एक आदर्श तोहफा देते हुए  46 वर्षीय ग्रहणी चान्दनी महेश्वरी व उनके बेटे 11 वर्षीय लक्ष्य महेश्वरी ने 20 जून को बिटस इंटरनेशनल स्कूल में अन्य विश्व रिकार्ड बनाने वालों के साथ अपना ही रिकार्ड तोड़ते हुए 12 घंटे में सूर्य नमस्कार आसन के 6 हजार 35 राऊंड  करके तथा बेटे लक्ष्य ने अपना ही रिकार्ड तोड़ते हुए 3 घंटे भू-नमन आसन करके गोल्डन बुक आफ वल्र्ड रिकार्ड में अपना नाम दर्ज करवाया।
चांदनी महेश्वरी ने बताया कि उनके पति राजेश महेश्वरी व माता संतोष महेश्वरी का रिकार्ड बनवाने में विशेष योगदान है। इसके साथ ही लक्ष्य महेश्वरी ने बताया कि उन्होंने अपनी माता से प्रेरणा लेकर व पिता राजेश महेश्वरी, गुरू रविंद्र श्योराण का आर्शीवाद प्राप्त करके उनके ही जन्मदिन पर तोहफा देने का निर्णय लिया। उन्होंने यह भी बताया कि मेरी तरह अन्य भी स्वास्थ्य लाभ लेकर रिकार्ड भी बना सकते हैं।  21 जून को अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस पर भिवानी-महेंद्रगढ़ सांसद धर्मबीर सिंह व उपायुक्त सुजान सिंह को गोल्डन बुक आफ वल्र्ड रिकार्ड का प्रमाण देते हुए सम्मानित भी किया।
Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close