टुडे न्यूज़बरवाला

शराफत और विकास, इसी का नाम भाई रामनिवास घोड़ेला

नहरी पानी चोरी की समस्या होगी हल और किसानो के लिए 2 हफ्ते नहरी पानीकी करेंगे व्यवस्था

शराफत और विकास” इसी का नाम भाई रामनिवास
24 घंटे बिजली और सम्पूर्ण सीवरेज की व्यवस्था दुरुस्त करवाने का वादा
6 महीने के भीतर सीवर की समस्या करेंगे हल
ओला वृष्टि में हुयी खराब फसल पर किसानो को प्रति एकड़ 20 हज़ार रूपए मुआवजे का वादा
नहरी पानी चोरी की समस्या होगी हल और किसानो के लिए 2 हफ्ते नहरी पानीकी करेंगे व्यवस्था

बरवाला विशेष

“शराफत और विकास इसी का नाम भाई रामनिवास” यह नारा आज बरवाला हलके के बच्चों से लेकर बड़े बुजूर्गों की जुबान से सुनाई दे रहा हैं। आज जब भी रामनिवास घोड़ेला का काफिला बरवाला की जनता से वोटों की अपील को निकलता है तो बदले में उन्हें लोगों का भर-भर कर आशीर्वाद मिल रहा है। यह चुनाव महज एक आम चुनाव नहीं बल्कि यह चुनाव निर्दलीय उम्मीदवार रामनिवास घोड़ेला पर हुए उस अन्याय और अत्याचार का बदला लेने का है, जिसका बदला बरवाला की जनता रामनिवास घोड़ेला के ऐसी के चुनाव चिन्ह के आगे का बटन दबाकर लेगी। बरवाला हलके की सेवा करने वाले घोड़ेला का टिकट काटकर बरवाला की जनता पर अनजान चेहरे को थोपने वाली कांग्रेस से इस बार बरवाला की जनता बदला लेने के मूड में है।

ग्रामीणों का मानना है कि जो हमारे बीच रहा, सुख दुःख में रहा, उसके संकट के घडी में कोई उनका साथ कैसे छोड़ सकता है? यही कारण है कि बरवाला की जनता के मिल रहे अथक प्यार और स्नेह के बलबूते रामनिवास घोड़ेला ने अपना चुनावी घोषणापत्र में ऐसे ऐसे मुद्दों को शामिल किया है, अगर वह पूरे हो जाते हैं तो बरवाला का कायाकल्प होने में समय नहीं लगेगा। यही कारण है कि खुद रामनिवास घोड़ेला भी जनता को विश्वास दिला रहे हैं कि वह “बरवाला का विकास कर उसे चंडीगढ़” की भांति बना देंगे। न केवल उन्होंने अपने घोषणापत्र में 24 घंटे सतत बिजली मुहैया करवाने का वादा किया है। बल्कि शहर और गांव की सबसे बड़ी समस्या अर्थात सीवर सिस्टम को 6 महीने में दुरुस्त करने का वादा भी किया है। न केवल बड़े बुजुर्गो, बल्कि किसानों को फसल खराब होने पर प्रति एकड़ 20,000 रूपए मुआवजा देने की भी घोषणा की हैं। इस प्रकार के अनगिनत वादों के साथ अपने संघर्ष के सफर में चल रहे रामनिवास घोड़ेला को विश्वास है कि इस बार बरवाला की जनता न्याय करेगी और उन्हें भारी भरकम वोटों से जीत हासिल करवाएगी।

घोड़ेला को पिछले विकास कार्यों का मिल रहा फायदा

बरवाला में 2009 का विधायक बनने के बाद विकास के दिशा में पिछड़े बरवाला शहर अति पिछड़ा था मगर उन्होंने न केवल अपने कार्यकाल के दैरान विभिन्न कार्यो के लिए ग्रांट पारित करवाकर न केवल बरवाला को एक उपमंडल बनवाया और बरवाला में पोस्ट ग्रेजुएट कॉलेज आईटीआई, स्कूल, मदन लाला डिंग़डा पार्क का निर्माण, स्टेडियम के लिए मंजूरी, बायपास के लिए प्रस्ताव पारित करवाने का काम किया। इतना ही नहीं 24 घंटे बिजली उनके कार्यकाल में मिलने से भी आज रामनिवास घोड़ेला की स्थिती मजबूत बनी हुयी है।इतना ही नहीं बरवाला हलके में 350 से ज्यादा उन्होंने सड़के और गलिया पक्की की। बरवाला शहर के हर वार्ड में सभी समुदाय के लोगो की धर्मशालाए चोपाल बनवाई। इसी प्रकार हर गाव में सभी समुदाय के लोगो की धर्मशालाये बनवाई गयी, हर गाव में बुस्टिंग स्टेशन का निर्माण करवाया गया गया, बरवाला शहर के मुख्य मार्ग पर 20 लाख की लागत से दो बड़ी बड़ी मरकरी लाइट लगवाई गयी। इस जैसे काई काम घोड़ेला के पास गिनाने के लिए है।

चंडीगढ़ की तर्ज पर होगा बरवाला का विकास

यह नारा आज बरवाला हलके के बच्चों से लेकर बड़े बुजूर्गों की जबान से सुनाई दे रहा हैं। आज जब भी रामनिवास घोड़ेला का काफिला बरवाला की जनता से वोटों की अपील को निकलता है तो बदले में उन्हें लोगों का भर-भर कर आशीर्वाद मिल रहा है। यह चुनाव महज एक आम चुनाव नहीं बल्कि यह चुनाव निर्दलीय उम्मीदवार रामनिवास घोड़ेला पर हुए उस अन्याय और अत्याचार का बदला लेने का है, जिसका बदला बरवाला की जनता रामनिवास घोड़ेला के ऐसी के चुनाव चिन्ह के आगे का बटन दबाकर लेगी। देशो से बरवाला हलके की सेवा करने के बाद अचानक घोड़ेला का टिकट काटकर बरवाला की जनता पर किसी अनजान चेहरे को थोपने वाली कांग्रेस से इस बार बरवाला की जनता बदला लेने के मूड में है। ग्रामीणों का मानना है कि जो हमारे बीच रहा, सुख-दुख में साथ रहा, उसका संकट के घडी में कोई उनका साथ कैसे छोड़ सकता है?

यही कारण है कि बरवाला की जनता के मिल रहे अथक प्यार और स्नेह के बलबूते रामनिवास घोड़ेला ने अपना चुनावी घोषणापत्र में ऐसे-ऐसे मुद्दों को शामिल किया है, अगर वह पुरे हो जाते है तो बरवाला का कायाकल्प होने में समय नहीं लगेगा। यही कारण है कि खुद रामनिवास घोड़ेला भी जनता को विश्वास दिला रहे हैं कि वह “बरवाला का विकास कर उसे चंडीगढ़” की भांति बना देंगे। न केवल उन्होंने अपने घोषणापत्र में 24 घंटे सतत बिजली मुहैया करवाने का वादा किया है। बल्कि शहर और गांव की सबसे बड़ी समस्या अर्थात सीवर सिस्टम को 6 महीने में दुरुस्त करने का वादा भी किया है। न केवल बड़े बुजुर्गो, बल्कि किसानों को फसल खराब होने पर प्रति एकड़ 20,000 रूपए मुआवजा देने की भी घोषणा की हैं। इस प्रकार के अनगिनत वादों के साथ अपने संघर्ष के सफर में चल रहे रामनिवास घोड़ेला को विश्वास है कि इस बार बरवाला की जनता न्याय करेगी और उन्हें भारी भरकम वोटों से जीत हासिल करवाएगी।

किसान हितैषी घोड़ेला

एक तरफ 24 घंटे बरवाला की जनता को बिजली का वादा करने के साथ ही किसानो के खेती की समस्या को हल करने के लिए भी रामनिवास घोड़ेला ने विशेष प्रयास किया है, उन्होंने कहा है कि ओला वृष्टि में खराब हुयी फसलों की तुरंत गिरदावरी करवाकर किसानो को प्रति एकड़ 20000 रूपए मुआवजा प्रदान करवाने के साथ 2 हफ्ते नहरी पानी भी उपलब्ध करवाने का काम करेंगे।

चुनावी वादे

रामनिवास घोड़ेला ने बरवाला के विकास के लिए जो किया उसका गवाह बरवाला स्वम है। मगर इस बार बवाल को चंडीगढ़ के तर्ज पर विकसित करने के लिए निर्दलीय उम्मीदवार रामनिवास घोड़ेला ने इस बार जनता से कई वादे किये है। उन्होंने भरोसा दिलाया है की उनकी जीत होने पर वह बरवाला में हमेशा से चली आ रही सीवर सिस्टम की समस्या का 6 महीनो में हल निकलवाकर सभी सीवर सिस्टम की नए सिरे से कार्य को मजूरी दिलवाएंगे। 24 घंटे बिजली, ओला वृष्टि के कारण बर्बाद हुई फसल पर किसानो को प्रति एकड़ 20 हज़ार मुआवजा, 2 हफ्ते नहरी पानी, स्कूलों में पढ़ने वाले एससी-बीसी के बच्चो के भाजपा सरकार के राज में 3 साल के रुके बकाया स्टाय फंड को बच्चो को प्रदान करने के साथ किसी भी सरकारी स्कूल को बंद होने नहीं देंगे। इतना ही नहीं जिन बच्चो को रामनिवास घोड़ेला के कार्यकाल में 2 किलोमीटर दुरी वालो को मुफ्त साईकल प्रदान करते थे, मगर अब इस नियम को बदल कर 5 किलोमीटर कर दिया गया। मगर रामनिवास के जीतने के बाद यह नियम बदल कर 2 किलोमीटर तक कर अधिक से अधिक बच्चो को सायकिल प्रदान करने का काम किया जायेगा। बरवाला में 100 गज के प्लाट जिनका कब्ज़ा बाकी है उनका कब्ज़ा प्रदान किया जायेगा, नहरी जल चोरी को रोक कर 2 हफ्ते नहरी पानी प्रदान किया जायेगा। लड़कियों के लिए विशेष बस सुविधा प्रदान की जाएगी, बस स्टैंड का अत्याधुनिक पद्धति से विकास किया जायेगा।

AC चुनाव चिन्ह के साथ रामनिवास घोड़ेला की लोगों से अपील

शराफत और विकास इसी का नाम “भाई रामनिवास” अपनी साफ़ ईमानदार छवि के साथ निर्दलीय चुनावी मैदान में उतरे रामनिवास घोड़ेला ने जनता से अपील करते हुए कहा है कि 21 तारीख को बरवाला की जनता अपना एक-एक कीमती वोट 10 नम्बर में बने AC के बटन को दबाकर अपना वोट दे. क्योंकि अच्छा आदमी, अच्छा काम और बरवाला की तरक्की तभी मुमकिन है।

मिल गेट में कर चुके हैं करोड़ों का विकास

बरवाला के अंतर्गत आने वाले मिल गेट रोड में इसके पहले रामनिवास घोड़ेला 45 करोड़ में वाटर वर्क, 5 करोड़ 30 लाख में सीवर सीस्टम, 20 करोड़ लागत में सड़कों का निर्माण करवाया था। मगर अब उन्होंने वादा किया है कि यहां के सीवर सिस्टम की समस्या को नए सिरे से हल किया जायेगा, जरुरत पड़ी तो वाटर वर्क का कार्य में करवाया जायेगा। (विज्ञापन)

 

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close